ONACHANGATHI,KERALA (SV21187)

Wednesday, 18th Nov 2020

IEDC HOME BASED EDUCATION,KERALA (SV18315)

Wednesday, 27th Nov 2019
Deepa Suresh

Deepa Suresh

Vishnu Suresh 

Deepa Suresh

(Mother of Vishnu Suresh)

Standard IX,

Deepthi HS Thalore,

Thrissur District, Kerala State

I am Deepa Suresh, mother of Vishnu Suresh, a 9th Standard of Deepthi HS Thalore. My son, Vishnu is a Hearing Impaired Child. He faced difficulty in understanding the lessons thoroughly, but he was fond of making and repairing electronic devices. When his Resource Teachers and Teachers identified this skill, they supported him and thus he participated in Science Exhibition.

The service of Resource Teacher is available at the school three days a week. The teacher understands his problem and gives sufficient support in his classroom activities. She uses flash cards, pictures and other TLMs to ensure his comprehension. Resource Teacher, Shailaja recognized his skill in drawing and supported him. He participated in Kerala State Special School Youth Festival conducted in Kollam on 25th, 26th and 27th October 2018. He won A Grade in Pencil Drawing.

He gets Speech Therapy from BRC Kodakara and receives Remedial Teaching also. This improves his confidence level and now he is able to talk and he behaves like a normal student. I would like to thank H.M Babu Master and RT Shailaja Teacher and all his teachers and friends for supporting him and giving him confidence to face his life.

Thankfully,
Deepa Suresh
(Mother of Vishnu Suresh)

SSA INITIATIVES, VIJAYAWADA, AMARAVATI, ANDHRA PRADESH (SV18194)

Wednesday, 6th Nov 2019

Ann Mariya,Kollam – Kerala (SC15138)

Monday, 8th Jul 2019

MANOJ

MANOJ

I am Manoj  17 years old.  I belong to a dysfunctional Paniya family.  My father passed away when I was young and I was deserted by my mother who married another man was taken care of by my old aunt who was least aware of education.  The SSA team identified me as a dropout and admitted me to the RSTC at Ambalamoola with compulsion.  First my life at the RSTC was so bitter but later I got used to it and enjoyed learning.  I would like to add to my testimonial that I am partially blind 75% and had regular medical check-up at the centre and I am provided with spectacles but still find it difficult to read and write clearly.  After vigorous coaching I was mainstreamed to the GHSS Ambalamoola (33110400504) and now going to appear for my X Std Board Exam. I have applied for scribe and wish to get good marks and further continue my studies and come up as an educated Paniya tribal youngster.

Inclusive education in schools and KGBV’s in kurnool, Andhra Pradesh (SC10346)

Monday, 29th Jan 2018

Inclusive Education activities in Krishna district, Andhra Pradesh (SC10340)

Monday, 29th Jan 2018

Home-based education for CWSN in Palakkad, Kerala (SV10330)

Thursday, 11th Jan 2018

“Book my companion”- an unique campaign to educate children with special needs by providing home libraries, Kerala (SV10329)

Thursday, 11th Jan 2018

A State Level Workshop on ‘Making Schools Accessible to CWSN’, Gujarat (SC10294)

Wednesday, 3rd Jan 2018

A state level initiative to cultivate advocacy for accessibility in terms of infrastructure for CWSN children in schools, Gujarat (SC10290)

Wednesday, 3rd Jan 2018

CWSN Child-Sabarkantha, Gujarat (SC10128)

Monday, 11th Dec 2017

CWSN Child-Bharuch, Gujarat (SC10122)

Monday, 11th Dec 2017

Sahitha Clubs – CWSN – Andhra Pradesh (SC10111)

Wednesday, 6th Dec 2017

Multi-Purpose Resource & Training Centers for CWSN, Maharashtra (SC9498)

Wednesday, 27th Sep 2017

Inclusive Education in Gujarat (SV9412)

Monday, 11th Sep 2017

Evaluation system for Children with Special Needs, Bihar (SV9150)

Monday, 14th Aug 2017
Shivani Rai

Shivani Rai

Shivani Rai, is the daughter of Mr. Sankar Rai, an inhabitant of Bhojo Gaon Panchayat under Sonari Block. Physically the child is fine but has problems while communicating. She is attending the  day care centre from 2013 onwards from the age of 5 yrs.

After interaction with her father, he was advised to consult a psychologist as soon as possible. After a couple of months, her father informed us that the Doctor diagnosed her with intellectual disability. Due to financial problem, it was not possible for them to undertake due treatment.

With due intervention of SSA officials, a  treatment plan was made for her. In 1st step, she was enrolled in the nearest LP School, 309 no. Bhojo LPS, and her condition was discussed with the Head Mistress and teaching staff of the school. After the discussion, the IE resource person identified some short term goals like behavior management, classroom behavior, etc. Along with this, a peer group was also createdin the class. All IE personnel of the block were tasked to visit the school for proper guidance of the child both academically and socially.

She was also made to attend the day care centre two days a week, for art and craft training which was organized in 2014-15. Here, the child learnt about colors, painting, and collage as well.

She is participating in all competitions at Block and District level, and has been awarded prize for her efforts.

Hussain Ali

Hussain Ali

Hussain Ali, born on 3rd March 2004 at Basugaon, Kashudola, under Sidli Block, Dist- Chirang, is at present a student Std. V in Kashudola LPS. Of three children, he is the second youngest born. Hussain’s mother during her pregnancy, suffered from jaundice and consequently delivered the child with cerebral palsy. His father belongs to economically weaker section of the society and is burdened with responsibility of looking after his family on very meager means.

Hussain, on account of his cerebral palsy, was deprived of schooling. He was not able to understand instructions. He could not speak. He had poor concentration and eye hand coordination. He also lacked toilet control.

The Block resource person under SSA approached the parents and counseled them to admit Hussain to the Day Care Centre of the block.  Thereafter, at the centre, an intervention plan was prepared and the resource person and physiotherapist commenced imparting various types of training and therapies such as self-help skills, language training, speech therapy, and physiotherapy.

After a few months, upon showing improvement, his parents were convinced to admit him in a school. At that time his developmental milestones were lagging and he needed special teaching skills under the guidance and consistent monitoring of the resource person of SSA.

He can now understand and follow instructions, and there is reasonable improvement in his eye hand co-ordination.He is now learning academic skills. He also participates in various activities at school.

Hussain’s case is demonstrative example of the life changing differences that can be brought about in the lives of these special children by specialized training and support of both family and society. It transforms a person with special needs to lead a normal life with dignity.  

Accelerated Learning Camps for CWSN, Uttar Pradesh (SC7360)

Monday, 24th Jul 2017

Best Practices in Inclusive Education for CWSN in Maharashtra (SC7214)

Sunday, 23rd Jul 2017

‘Tare jamin par’ – Best Practices under inclusive education, Madhya Pradesh (SC7167)

Wednesday, 19th Jul 2017

Establishment of Resource Rooms for Children with Special Needs, Haryana (SC7151)

Wednesday, 19th Jul 2017

Inclusive Adventure /Nature Study and coastal camps, Haryana (SC7148)

Wednesday, 19th Jul 2017

Best Innovative Practice: Convergence between IE SSA & IEDSS in Haryana (SC7145)

Wednesday, 19th Jul 2017

For better implementation of Inclusive Education in Haryana, a joint action plan has been formulated where the schemes of Inclusive Education are join...

Initiatives under Inclusive education, Jharkhand (SC7064)

Wednesday, 19th Jul 2017

Training of in-service teachers on Learning Disabilities and Curriculum Adaptations, Chandigarh (SC6911)

Wednesday, 19th Jul 2017

Learning Corner under Inclusive Education, Chandigarh (SC6895)

Wednesday, 19th Jul 2017

SSA, Chandigarh has initiated an innovative practice of establishing learning corners for CWSN to create a positive learning environment covering init...

Provision of Braille books and other aids for visually impaired children (SC6847)

Wednesday, 19th Jul 2017

Bal Jyoti – Eye care camp for Visually Impaired Children, Odisha (SC6829)

Wednesday, 19th Jul 2017

Asha Kiran – a booklet on inclusive education for CWSN (SC6767)

Tuesday, 18th Jul 2017

राजा बैगा

राजा बैगा

यह बात जिला उमरिया विकासखण्ड मानपुर के ग्राम सेमरा के 11 वर्षीय राजा बैगा की है ग्राम सेमरा के दिहाडी मजदूर आनन्द लाल एवं गीता बैगा के एक पुत्री और 3 पुत्रो मे राजा द्वितीय पुत्र है। राजा अपनी बडी बहन और दो छोटे भाईयों से कुछ अलग है। उनका कुछ अलग होना ही उनके जीवन की सबसे बडी कठिनाई सावित हो रहा था। राजा जन्मजात नेत्रहीन है, ईश्वर ने हमारे राजा को इस दुनिया से देखने की दक्षता और सतरंगी दुनिया को महसूस करने की क्षमता से मरहूम रखा है।

वैसे तो समावेशन शिक्षा मे राजा का दाखिला जनपद पंचायत मानपुर के प्राथमिक शाला कुदरा टोला मे करा कर शैक्षिक औपचारिकता निभा ली गई थी, किन्तु ना तो उसके घर मे अथवा विद्यालय मे नेत्रहीन बच्चों को पढाने लायक माहौल था। ऐसे मे राजा की दूरी स्कूल से बढती चली गई। ऐसे मे सर्व शिक्षा अभियान की समावेशन शिक्षा और जनपद शिक्षा केन्द्रो मे मोबाईल स्त्रोत सलाहकारो की नियुक्ति ने राजा के लिए एक नई रोशनी प्रदान की। जनपद शिक्षा केन्द्र मानपुर की एम0आर0सी0 श्रीमती पुष्पलता गुप्ता के सेमरा मे आनन्द लाल बैगा के घर मे भ्रमण के दौरान राजा के बारे मे ज्ञात हुआ, तब श्रीमती गुप्ता ने न केवल राजा के माता-पिता बल्के राजा के विद्यालयों के शिक्षको की भी काउंसलिंग प्रारम्भ की श्रीमती गुप्ता की काउंसलिंग से राजा की बडी बहन ने प्रभावित होकर स्वयं राजा को नियमित विद्यालय ले जाने की ठान ली श्रीमती गुप्ता के इस सतत् काउंसलिंग ने अपना प्रभाव दिखाया और राजा बैगा प्राथमिक सेमरा मे अपकी बडी बहन के साथ नियमित विद्यालय आने लगा।

श्रीमती गुप्ता ने अपनी काउंसलिंग के दौरान राजा बैगा की एक विशेष और विलक्षण क्षमता उसके मधुर कण्ठ और विशिष्ट गायन शैली को भी पहचाना और राजा की इस खूबी को जनपद शिक्षा केन्द्रो के मानपुर और जिला शिक्षा केन्द्र उमरिया को अवगत कराया गया जिला शिक्षा केन्द्र के सहायक परियोजना समन्वयक (आई0ई0डी0 श्री कमलेश पाण्डेय ने विश्व विकलांग दिवस (3.12.2016) को राजा बैगा को मंच मे स्थान देते हुए उसकी प्रतिभा से सभी को परिचित कराया। राजा बैगा ने अपने मधुर कंण्ठ और विशिष्ट गायन शैली से सभी को मंत्र मुग्ध कर दिया।

राजा बैगा की इस प्रतिभा को प्रशंसित करते हुए जिलाधिकारी उमरिया ने 26 जनवरी 2017 के भारत पर्व कार्यक्रम मे विशेष रूप से आमंत्रित कर उसे मंच प्रदान करते हुए पुरस्कृत किए। आज ग्राम सेमरा के राजा बैगा न केवल शाला के नियमित विद्यार्थी है बल्कि उमरिया जिले के राजा बेटा बन चुके है।

सौरभ सेन

सौरभ सेन

श्रवण बाधित दिव्यांग छात्र सौरभ सेन को श्रवण यंत्र व स्पीच थैरेपी के माध्यम से शिक्षा की मुख्य धारा में जोड़ा सर्व शिक्षा अभियान ने। जिला – कटनी (म.प्र.).

दिव्यांग छात्र सौरभ सेन पिता श्री जगमाहन सेन शास0 मा0 शा0 बरहटा, विकासखण्ड विजयराघवगढ़, जिला कटनी में कक्षा-छठवी में अध्ययनरत है। छात्र की शाला में उपस्थिति बहुत कम रहती है। छात्र शाला आने के लिए तैयार नहीं होता था।  एम0आर0सी0 पवन पाराषर द्वारा पालक एवं शिक्षक से सम्पर्क किया गया। छात्र की वर्तमान स्थिति की जानकारी प्राप्त की। छात्र सौरभ को सुनाई नही देता था। एम0आर0सी0 द्वारा सर्वप्रथम सामाजिक न्याय विभाग द्वारा आयोजित चिकित्सा मूल्यांकन शिविर में छात्र की जांच करवाई। ज्ञात हुआ, कि छात्र को हियरिंग एड की आवष्यकता है। छात्र सौरभ सेन को एम0आर0सी0 के प्रयास के द्वारा हियरिंग एड चिकित्सा मूल्यांकन शिविर के दौरान उपलब्ध कराया गया। छात्र सौरभ सेन के पालक को हियरिंग एड का प्रशिक्षण एम0आर0सी0 द्वारा कराया गया की बच्चे को हियरिंग एड की सहायता से कैसे सुनाई देगा, आज छात्र हियरिंग एड के माध्यम से छात्र को स्पीच थैरेपी देकर सुनने का प्रयास एमआरसी द्वारा कराया गया एवं पालक को हियरिंग एड के बारे में परामर्ष दिया। पालक को परामर्ष देकर सीडब्ल्युएसएन छात्रावास में एडमिषन हेतु तैयार किया।

छात्र सौरभ सेन हियरिंग एड के माध्यम से छात्र को सुनाई देने लगा है। छात्र का एडमिषन सक्षम (सी.डब्ल्यु.एस.एन.) छात्रावास में करा दिया है। छात्रावास में एडमिषन के दौरान छात्र पालक को संकेत से बोलता है, ‘‘आप जाओ, मै यही रहूंगा‘‘छात्रावास में प्रवेष के दौरान छात्र काफी उत्साहित था। पालक एवं शिक्षक एम0आर0सी0 के इस प्रयास से काफी उत्साहित हुये। साथ ही विष्वविकलांग दिवस प्रतियोगिता में छात्र सौरभ सेन की सहभगिता एम0आर0सी0 द्वारा कराई गयी । आज सौरभ सक्षम छात्रावास में नियमित अध्ययनरत होने के साथ-साथ सांस्कृतिक कार्यक्रमों में लगन पूर्वक निरंतर सहभागिता करते हुएॅ आगे बढ़ रहा है। सौरभ के लगनपूर्वक प्रयास को देखकर सभी हर्षित है।

कुमारी मधु सिंह

कुमारी मधु सिंह

निःशक्त छात्रा कुमारी मधु सिंह गोड़ शास0 प्राथ0 षा0 कोनिया में गतवर्ष कक्षा-5वी में अध्ययनरत थी। छात्रा की शाला में उपस्थिति बहुत कम थी। छात्रा शाला में दृष्टिबाधित होने के कारण बहुत कम आती थी । कक्षा 6वी में प्रवेश हेतु शाला की दूरी 5 कि0मी0 थी। इस कारण से छात्रा शाला से बाहर हो रही थी। एम0आर0सी0 पवन पाराशर द्वारा पालक एवं शिक्षक से सम्पर्क किया गया। छात्र की वर्तमान स्थिति की जानकारी प्राप्त की। छात्रा मधु सिंह गोड के पिता ने बताया की शास0मा0षा0 गैरतलाई से कोनिया 5 कि0मी0 है। इसलिये छात्रा स्कूल नहीं जा पा रही है। एम0आर0सी0 द्वारा सर्वप्रथम पालक को परामर्ष दिया, कि छात्रा का प्रवेश बालिका छात्रावास में करवाने हेतु पालक को तैयार किया।

छात्रा कुमारी मधु सिंह गोड के प्रवेश हेतु पालक को लेकर बालिका छात्रावास विजयराघवगढ़ में सम्पर्क किया गया। छात्रावास से जानकारी प्राप्त हुई, कि छा़त्रावास की 100 सीट पूर्ण है। एम0आर0सी0 द्वारा  सहायक जिला परियोजना समन्वयक, आई.ई.डी. श्री अनिल त्रिपाठी से सम्पर्क किया गया। छात्रा के प्रवेश के संबंध में पूर्ण जानकारी दी, की छात्रावास में 100 सीट पूर्ण होने के कारण प्रवेश में बाधा आ रही है। एपीसी आईईडी एंव एम0आर0सी0 के प्रयासों से जिला परियेाजना समन्वयक, जिला शिक्षा केन्द्र कटनी, से विषेश अनुमति प्राप्त कर छात्रा का प्रवेश बालिका छात्रावास में करा दिया गया।

छात्र कुमारी मधु सिंह गोड शास0कन्या मा0षा0 विजयराघवगढ़ में कक्षा 6 में अध्ययनरत है, एवं बालिका छात्रावास में निवासरत है।  एम0आर0सी0 के अथक प्रयास से आज छात्रा शाला में अध्ययनरत है, इस कार्य से पालक एंव छात्रा दोनो काफी उत्साहित है। शास0 कन्या मा0षा0 वि0गढ़0 की सहायक अध्यापक श्रीमती प्रियंका खरे को 10 दिवसीय ब्रेल प्रशिक्षण में प्रशिक्षित करा दिया गया है। आज शिक्षक एंव छात्रा के बीच तालमेल बन गया है। छात्रा को बालिका छात्रावास में ब्रेल लिपि का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। उक्त शैक्षणिक सुविधा पाने के पष्चात् मधू एवं उसें पालक बहुत खुश है।

कुमारी शांता

कुमारी शांता

रोलेटर के माध्यम से कुमारी शांता नियमित रूप से शाला जाने लगी, इसकी आवष्यकता को पहचान कर उपलब्ध कराया सर्व शिक्षा अभियान के विशेष शिक्षक ने। जिला – देवास (म.प्र.)

देवास जिले के बागली ब्लाक मे जनशिक्षा केन्द्र आगुर्ली के प्रा. वि. शिवपुर मे छात्रा शांता कक्षा 2 री मे अध्ययनरत थी जो अस्थि बाधित थी स्कूल आने की समस्या थी। वो हाथ पैर से चलती थी उसके दादा उसे कंधे मे विठाकर स्कूल लाते थे। एम.आर.सी द्वारा सम्पर्क किया गया सम्पर्क दौरान शिक्षक द्वारा बताया गया कि छात्रा अस्थिबाधित अधिक होने से नियमित स्कूल नही आती है उसके पालक से सम्पर्क किया गया पालक ने बच्चे से संबधित समस्त समस्याए बताई। समस्याए सुनने के बाद पालक को व्हील चेयर दी गई एवं एक रोलेटर भी दिया गया रोलेटर से नियमित घुमाने को कहा गया वे रोलेटर से खडी होने लगी और उसके सहारे चलने लगी। व्हील चेयर से आज नियमित उसके दादा स्कूल छोडने जाते है वे आज विना सहारे के चलने लगी है और बहुत खुश है।

 इशिका गोपाल

इशिका गोपाल

कन्या प्रा.वि. बागली, जिला देवास मे अध्ययनरत इशिका गोपाल की कहानी कुछ ऐसी है कि, छात्रा इशिका के पिता गोपाल के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद घर की समस्त जवाबदारी उसके दादा ने सम्हाली| इशिका एक मानसिक दिव्यांग लडकी थी उसका व्यवहार कुछ अलग तरह का था वो सुबह उठने के बाद हमेशा चलती रहती थी| एक व्यक्ति को हमेशा उसका ध्यान रखना पडता था| सर्वशिक्षा अभियान के अतंर्गत कार्यरत मोबाईल स्त्रोत सलाहकार (एमआरसी) द्वारा उसके परिवार से सम्पर्क किया गया और उसकी दैनिक दिनचर्या के बारे मे चर्चा की गई| चर्चा के दौरान छात्रा इशिका से बात की लेकिन वह अपने धुन मे ही रहती थी मोबाईल स्त्रोत सलाहकार ने उसे उसकी रुचि अनुसार कुछ खिलौने लाने को कहा एवं सतत उस छात्रा के घर सम्पर्क करता रहा| सामाजिक न्याय विभाग द्वारा दी गई मानसिक किट उसको प्रदान किया गया मानसिक किट मे दी गई शैक्षणिक शिक्षण सामग्री, पजल्स, खिलौने, चित्रकार्ड आदि का उपयोग करना बताया गया। इशिका चित्रो पजल्स को देखकर उनसे खेलने लगी और दो-दो घंटे उन्ही पजल्स व सामग्री से खेलने लगी और धीरे धीरे सुधार आने लगा और वह निर्देश का पालन करने लगी और उसकी दिनचर्या मे काफी सुधार हुआ।

इशिका का नाम उसके दादा जी ने क. प्रा.वि. बागली मे दर्ज कराया और प्रतिदिन उसको स्कूल भेजने लगे शुरु मे कुछ समस्याए आई लेकिन स्कूल के प्रधानाध्यापक शिक्षक श्री गोविन्द राजपूत और उनकी कक्षाध्यापिका. श्रीमती रामकन्या पाचोरिया द्वारा काफी प्रयास किया गया शिक्षिका द्वारा उसका हमेषा ध्यान रखने के बाद कक्षा की समस्त गतिविधियो मे भागीदारी कराना सराहनीय कार्य था आज वे स्कूल की समस्त गतिविधियो मे भागीदारी करती है शिक्षिका के निर्देषो का पालन करती है और अपनी समस्याओ को शिक्षिका से बताती है। आज वे काफी कुछ लिख लेती है लेकिन बोलने की समस्या है उसके लिए प्रयास किया जा रहा है। आज उसके दादा जी उसके सुधार से काफी खुश है और उसके प्रगति के लिए हमेषा सोचते रहते है।

मोहम्मद नावेद

मोहम्मद नावेद

यह कहानी है मोहम्मद नावेद की जिसके माता पिता एवं समाज ने उसकी क्षमता को नही पहचाना और उसे पागल करार दे दिया। इस बच्चें की क्षमता को पहचान कर उसे शिक्षा के साथ ही उसकी अन्य प्रतिभाओं को उभरने का अवसर दिया सर्व शिक्षा अभियान के कार्यकर्ता ने।

हम यह जानते है की निःशक्तता अभिशाप नही है हम यानि की समाज इसे जिस रूप में स्वीकार करेगा वही रूप होगा। प्रियंका नगर, झुग्गीबस्ती कोलार रोड़, भोपाल में एक बालक दुकान में बैठा मिला। मैं दुकान में चाय पीने गया हुआ था चाय पीते-पीते मेंने बालक की ओर देखा जो जमीन पर कुछ लिखने की कोशिश कर रहा था ओैर बार-बार लिखता फिर मिटाता और फिर लिखता, यही प्रक्रिया बार-बार दोहराता। मेरा कोतूहल बढ़ा, मुझे लगा की बच्चा कुछ लिखने की कोशिश कर रहा है| मैं उसके पास गया तो वो हँसने लगा और जोर-जोर से चिल्लाने लगा, लिख लिया, लिख लिया फिर उसने मेरी तरफ देखकर कहा, “मुझे स्कूल जाना है”| इतना सब होने के बाद भी मुझे यह पता नहीं चला की यह बालक निःशक्त है पर जब मैंने उससे बात करने की कोशिश की उसके व्यवहार और उसकी एक्टीविटी से में समझ गया ओर पास बैठे कुछ लोगों से पूछा तो उन लोगो ने बोला की यह बच्चा तो पागल है ऐसे ही घूमता रहता है मैंने उनसे कहा कि आप इस बच्चे का घर बता सकते हैं उन्होंने पास की झुग्गी तरफ इशारा किया कि यही उसका घर है मै तुरंत बच्चे को साथ लेकर उसके घर गया उसके माता पिता मुझे देखकर चौक गये कि क्या हो गया कहीं हमारे बच्चे नें कुछ किया तो नहीं| पर  मैंने अपना परिचय बताते हुए उनसे बच्चे के बारे में बताने को कहा जब उन्हें लगा कि सरकार की तरफ से आयें हैं हमें कुछ लाभ दिलायेंगे तो वो तुरंत बताने को तैयार हो गये ओर फिर उन्होंने बच्चे का नाम मोहम्मद नावेद बताया ओर कहा की, “हमारा बच्चा पागल है इसलिए किसी स्कूल में दाखिला नहीं मिल पा रहा क्योंकि यह बच्चों को मारता है ओर कुछ ना कुछ हरकत करता रहता है।“ फिर मैने बच्चे का रिकार्ड मंगवाया जिसमें उसमें उसके विकलांगता प्रमाण पत्र को देखा उन्हें समझाया कि यह बालक पागल नहीं है बच्चे का मानसिक विकास कम हुआ है ओैर यह बच्चा पढ़ सकता है अभिभावक हँसने लगे साहब आप हमारा मजाक उड़ा रहें हैं, पर मैंने उनसे कहा कि ऐसा नहीं है बच्चा पढ़ सकता है केवल बच्चे को ध्यान देने की आवश्यकता है। मेरे बहुत जोर देने पर वह पढाने हेतु तैयार हो गये लेकिन मैंने जब उन्हें बताया कि बच्चे को छात्रावास में रखेंगे तब वह मना करने लगे पर मैंने उन्हें आश्वासन  दिया कि 15 दिन में यदि आप अपने बच्चें में बदलाव नहीं देखेंगे तो हम आप के बालक को वापस कर देंगे। वह इस विश्वास पर बच्चे को छोड़ने हेतु तैयार हो गये और दूसरे दिन बच्चे को छात्रावास में छोड़ गये अब परीक्षा की घड़ी मेरी थी क्योंकि मैने उनसे 15 दिन का समय लिया था। मैंने भी ठान लिया था कि मै बच्चे में बदलाव लाऊंगा। फिर मैंने अपने छात्रावास में मानसिक विकलांगता से प्रशिक्षित शिक्षिका श्रीमति भावना कटियार से बच्चे के बारे में चर्चा की| उन्होंने बालक के स्वभाव को जाना और अगले दिन मैडम ने बच्चे के संबंध में बताया कि बच्चा होनहार है और वह दो दिन में बहुत कुछ सीख गया है और सीखने की कोशिश भी कर रहा है| अब हमें आशा की किरण दिखाई देने लगी कि हमारी मेहनत सफल हो गई यह मेरा विश्वास था| 15 दिन तक सही ट्रीट करने के बाद बच्चे में इतना बदलाव देखकर मैं चकित रह गया, बच्चा क,ख,ग लिखना सीख गया, ए,बी,सी,डी लिखना सीख गया मैं अचंभित था| उसके घर वालों को फोन किया और बताया कि आप अपने बच्चे से आकर मिल लें। वह आये और बच्चे की प्रतिभा देख वह खुद आश्चर्यचकित रह गये एक दिन मोबाइल में गाना चल रहा था तो मैंने गौर किया कि बच्चा डाँस करने की कोशिश कर रहा था तो मैंने उसके पास जाकर तेज आवाज में गाना बजाया तो मैं उसका डाँस देखकर दंग रह गया अब मैंने इस संबंध में मेडम से चर्चा की विश्व  विकलांग दिवस पर राजधानी मे प्रोग्राम होता है क्यों न बच्चों की प्रतिभा को आगे लाया जाये और दोनों विशेष शिक्षक श्रीमति भावना कटियार और श्रीमति रीना यादव ने सभी बच्चों के साथ ही नवेद को विशेष नृत्य प्रशिक्षण दिया, अब हमारी ओैर हमारे शिक्षकों की परीक्षा की घड़ी थी| 03 दिसम्बर के प्रोग्राम में नवेद और उसके दोस्तों को भाग दिलवाया गया सभी नें अपना-अपना प्रोग्राम दिखाया अब बारी नवेद की थी, वो  स्टेज पर गया जैसे ही गाना चालू हुआ उसने अपनें डाँस का प्रदर्शन दिखाया, वहाँ उपस्थित सभी की तालियों की आवाज से बच्चा इतना उत्साहित हुआ कि हम अंदाजा नही लगा सकते कि उसे कितनी खुशी मिली होगी। दि. 01/12/2016 बी.आर.सी. में हुए प्रोग्राम में प्रथम पुरुस्कार एकल नृत्य में प्राप्त किया और 03 दिसम्बर को भी वही डाँस किया जिसमें उसने और अधिक अच्छा प्रर्दशन कर दिखाया क्योंकि पुरुस्कार पाने के कारण उसमें उत्साह था। 03 दिसम्बर को भी एकल नृत्य में प्रथम पुरूष्कार प्राप्त कर सभी का दिल जीत लिया| आज नवेद, छात्रावास में पढ़ रहा है और उसकी प्रतिभा पहले से ओर ज्यादा है अब वह पढ़ना सीख रहा है, पड़ने के साथ एक चीज और वो सीख रहा है, जो है बढना|

नवेद की कहानी सुने तो लगता है की, नवेद हमें सिखाता है की कभी भी हार नहीं माननी चाहिए, साथ ही यह भी की सारे समाज, परिवार एवं अभिभावकों को समझना चाहिये की, निःशक्तता अभिशाप नहीं है|

संदीप

संदीप

यह कहानी है संदीप की| जिसके माता पिता का निधन हो गया था और वह अपनी बूढ़ी दादी के साथ रहता था। दादी उसे रस्सियों में बांध कर काम पर चली जाती थी। सर्व शिक्षा अभियान ने संदीप को आजादी दिलाकर शिक्षा पाने का अवसर उपलब्ध कराया। जब सभी बच्चे खेल रहे होते, शरारते कर रहे होते, वह फुटपाथ पर खंभे से बंधा अपनी दादी मां का इंतजार कर रहा होता| उसकी मासूम आंखो में कोई शिकायत नहीं बस उदासी नजर आती। उसके होंठों पर न मुस्कान होती न सवाल, अगर कुछ होता उसके पास, तो बस एक सूनापन| खंभे से बंधे हुये, खाली नजरों से वो हर आते जाते को देखता। कभी रस्सी का सिरा जहां तक पहुँच सके वहां तक जाकर बस यूं ही खड़ा हो जाता| 65 साल की दादी मां 08 साल का संदीप सिंह जिला भिण्ड तहसील गोहद चौक की सड़कों की फुटपाथों पर यूं ही गुजर बसर करते|  लेकिन इस बच्चे की कहानी से बचपन कहीं गुम हो गया। जानने वाले दांतो तले उंगलियां दबाते है लेकिन यह इस मासूम की जिदंगी की हकीकत है दादी और पोते की ये कहानी जानने के लिए विमला वाई की कहानी जानना भी जरूरी है। पांच साल पहले विमला वाई के बेटे यानि संदीप के पिता की मौत हो गयी थी। संदीप कुछ बोल और सुन नहीं सकता| जब वह पैदा हुआ था, तो सामान्य बच्चों की तरह था। कुछ महीनो बाद उसे तेज बुखार हुआ, उसके बाद वह इसी तरह हो गया। परिवार में कोई ओर नहीं है जो उसकी देखभाल कर सकता है। दादी हर रोज मूंगफली आदि बेचकर उससे होने वाली कमाई से अपना और अपने पोते का किसी तरह भरण पोषण कर रही है। विमला बाई का ये 08 साल का पोता संदीप ( HI+MR ) श्रवण बाधित और मानसिक मंद बच्चा है। संदीप और उसकी दादी की जिदंगी उन अँधेरी और चुनौतीपूर्ण जिदंगियो में एक है जिस पर सर्वशिक्षा अभियान के अतंर्गत कार्यरत मोबाईल स्त्रोत सलाहकार (एमआरसी) की नजर पडी| दिव्यांग होकर अपने आप में चुनौती पूर्ण जीवन  के लिए मजबूर ऐसे बच्चों की जिदंगी आसान बनाने के लिए एमआरसी ने प्रयास किया| प्रयास करने पर आशा की किरण नजर आने लगी। बहुत बार विमला बाई से संपर्क करके बच्चे को भिण्ड जिले के सीडब्ल्यूएसएन छात्रावास में दर्ज कराने का प्रयास किया पर विमला बाई से कोई रिसपोन्स नहीं मिला। फिर भी सर्व शिक्षा अभियान की मोबाइल स्रोत सलाहकार संदीप को सामान्य और आसान जिदंगी मुहैया कराने की पूरी कोशिश में लगी रही| बार-बार प्रयास करने पर विमला बाई ने संदीप को शासकीय प्राथमिक शाला गोहद चौक में दर्ज करवाया।

अब संदीप सामान्य वच्चों के साथ सामान्य जिदंगी जीने लगा है। और अब उसकी दादी सर्व शिक्षा अभियान की मोबाइल स्रोत सलाहकार को बहुत दुआ देती है कि, बिटिया तुमने तो मेंरे पोते के लिए देवदूत सा काम किया है| साथ ही संदीप भी बेहद खुश है, वो भी प्रसन्नचित होकर नियमित विद्यालय जाने लगा है।

Muad Rukunudheen MM

Muad Rukunudheen MM

I have been studying at Govt Senior Secondary School Kavaratti since 2015 and now I am in 8th standard. I was
not in position to do anything without support of others, but my father and mother motivated me. My father brought me to school every day and at school my classmates and teachers helped me to do all kind of works.
When I was in 7th standard, the teachers arranged a wheelchair for my movements from class as well as outside. My teachers encouraged me for participate in more activities and  all my classmate are always helping me to move through wheel chair. If I am alone at my class, some of my classmates are staying with me till my father reaches. My teachers are contacting my father if any special events and any matters for providing care.
I am very much grateful to the SSA Mission Lakshadweep for their constant support to my education. They encouraged me to participate various competition held in connection with World Disable Day and other events. I am
proud to record that I have got prize in Singing competition organized under SSA Mission.
Escort allowance of Rs.2500/-has received for the academic session 2016 to 2017 and previous years. Ms. Naseera. K.C and Najeeba Beegum R.M Resource Teacher for CWSN under SSA Lakshadweep gave constant support to improve my learning. During the period of my seventh standard my class teacher Mr.Mujeeb sir presented the special price for best assistant who helped me sincerely.

Jaswinder Kaur

Jaswinder Kaur

Jaswinder Kaur is a 16 year old dalit girl, who is differently abled due to her mental handicap. She represented India in World Special Olympics in Los Angeles, USA from July 25 to August 2, 2015. Her father is a labourer and  mother works as a domestic help in the village.

She started running short races when she was in class 3. Her father encouraged her to run. She came 1st in 100 mtr. race in District Special Games in 2012 held by SSA, Fatehgarh Sahib. Since then there has been no looking back for her. She was given special training in the Resource Room, GES Naraingarh.

In 2013 she bagged 1st position in Punjab State Special Olympics. She was selected for National Games in the trials held at Ludhiana in September 2013. She bagged Gold Medal in 100 mtr. race & Shotput in National Athletic Championships held at Delhi in 2014 and was then selected for World Special Olympics.

Jaswinder was provided support by SSA/RMSA Fatehgarh Sahib in obtaining passport under ‘Tatkal’ Service and police clearance certificate. All the expenditure was borne by SSA. She was provided proper diet, track suit & shoes under SSA/RMSA and Sports department.

Jaswinder attended 4 preparatory camps held at Hyderabad, Brailley, Patna and Chennai. Her hard work paid off when she won Silver medal in Shotput and Bronze medal in 800 mtr. Race in World Special Olympics Summer Games in 2015 held at Los Angels, USA.

Karam Singh

Karam Singh

Karam Singh is a 10 yrs old student of 4th class suffering from multiple disabilities (Cerebral Palsy with Mental Retardation) and associated low vision problem. He came in contact with Sarva Shiksha Abhiyan when he was identified by the IERT/ IEV during survey of 2011. His parents had expired when he was just a 6 yrs old.  The IEV of cluster Multipurpose of Block Patiala 2 approached him in July 2011 after summer vacations. Before joining the Resource Room, the child was just bed-ridden. In the Resource Room, the Resource teacher and Volunteer put a lot of labour to improve his physique. He was provided a tricycle and elbow crutches from IE under SSA. In few months, a huge improvement was seen in his physical as well as mental status.
He learnt in the Resource Room environment in a very friendly and effective manner as a result of which he was directly mainstreamed in 3rd class at GPS Multipurpose School, and the teachers promoted him to the 4th class through bridge course.
Now with the help of crutches and tricycle, he moves independently and can come to school on his own. He participated in the District Sports Meet and got 2nd position in 50 Mtrs race. He is interested in extra-curricular activities and cultural programs also.

Suman Jalli

Suman Jalli

Suman Jalli is a child with multiple disabilities having both vision and hearing impairment. She is the 2nd child of – Prasanna Jalli and Minati Jalli and was born at Khallikote primary health centre on 09/01/2004. During birth she had no physical problem but at the age of 1 year her family noticed that Suman is often falling on the floor and bumps over the objects. Their family suspected she has vision problem.

Her parents Prasanna jalli and Minati jalli could not take her to medical for treatment due to financial problem. They belong to BPL category and live in Tentuliapada village under Keshapur GP of Khallikote Block, dist- Ganjam near the bank of CHILIKA Lake. Occupationally they are fisherman.

At the age of 2years 6month her parents got her left eye operated at M.K.C.G. medical college, Berhampur. When she was  in 5th standard at Tentuliapada NP School, she attended the “BAL JYOTI” vision screening programme. During that programme, doctors referred her for higher treatment at L.V. prasad Eye Institute, Patia, Bhubaneswar. With the help of Inclusive Education, SSA, Ganjam and guidance of BRTs she was admitted in L.V. Prasad Eye Institute for eye operation.  Subsequently her both eyes were operated and spectacles were also provided to her.

Her parents are being provided escort allowance. She has received 75% visual handicapped certificate. Banishree scholarship is also being provided to her.

Presently she is studying in class 8th at Keshpur UGHS. In 7th class, she faced some difficulties in hearing. After several counselling, her father got a clinical assessment of her hearing done and her handicapped certificate was renewed. Medical findings of her vision problem are aphakia and hearing problem is SNHL. BTE hearing aids have been provided to her at District Resource Centre, Inclusive Education, SSA Ganjam on 17/10/2016.

She comes to school regularly and  participates in all type of scholastic and non scholastic activities at school.  Suman also has a disabled younger brother who she brings to school by his wheel chair. She also helps her mother in household activities. Over all she is liked in her community.

Balunkeswar Parida

Balunkeswar Parida

Balunkeswar Parida is a nine year old boy with Cerebral Palsy studying in class-IV of Dharmakirti School, of Block Brahmagiri. He is the only child of Mr. Jalandhar Parida and Mrs. Kumudini Parida of Dharmakirti village. Mrs Kumudini Parida is also affected  by poliomyelitis. The child was identified during community survey by the SSA R.P. (CWSN ) and IEV in the year 2010. His name was enrolled after due consultation with parents and Class Teacher.

Balunkeswar has Athetoid Cerebral Palsy with broken speech. He is able to stand without support for a minute. He is able to walk with rollator walker. He has received the rollator  and wheel chair after attending medical assessment camps. He can write few words or sentences with his right hand but it takes him a lot of time.

The SSA Resource Person has developed an Inclusive Education Programme of Balunkeswar with consultation and recommendation of his parent, class teacher and headmaster. The child has received academic support through classroom activities and remedial teaching. He has been encouraged  to participate in group activities rather than individual training. He is being accessed at block resource center once a week for physical therapy and speech training. He is also promoted to develop his vocabulary and writing skill by attending the resource center.

His parents have underwent various training programme conducted by SSA,Puri like physio therapy camp, speech therapy, parents training, medical assessment camp to bring awareness among the parents, updating their knowledge and skill to support Balunkeswar.

At present Balunkeswar is one of the regular studenst and a motivator of others through his ability. He has been empowered through linkage with Banishree Scholarship and escort allowance. His co-curricular activities performance is commendable and he is a dynamic personality among the peer groups.

Atish

Atish

Atish was born at Khaliabagicha of Boudh town in Odisham and has Cerebral Palsy, since the time of his birth. His parents left no stone unturned for his treatment / nourishment, but in vain, due to lack of financial funds and proper help. One of his neighbor used to attend Parent Counselling programme for the CWSN held at N.P. Dev Primary School, Boudh organized by SSA, Boudh. He briefed  Atish’s parent  about the ‘Free of Cost’ service / activities of SSA and advised to meet the BRP in this regard.

The helpless parents met with the Hqrs. BRP who introduced them to the IE Coordinator of SSA, Boudh. The IE Coordinator consoled them and assured that SSA would take the entire responsibility for his therapeutic intervention/treatment etc. regularly. Thereafter, Atish was diagnosed in the Medical Board and issued a certificate of cerebral palsy category with 90% disability.

A Corner Chair along with Wheel Chair had been provided to Atish for his comfort  in classroom & easy convenience to School. Escort Allowance have been issued to the parents of Atish to bring him to school regularly. Banishree Scholarship & 15 Kg rice have been provided out of social security scheme.

At present, Atish is an intelligent student of Class-VII in Khaliabagicha PUPS of Boudh and writes with his own hand. He fulfills his daily routine activities, in the same manner.

In his own words, ‘Now I treat myself to be much more competent in comparison to a normal child. There is no activity, that I cannot perform’. Someone has rightly said ‘Where there is a Will, there is a Way’.